फाइव स्टार रेटिंग के लिए आई टीम ने गाेपनीय ढंग से सर्वेक्षण किया, लोगों से पूछा- सफाई के बदले रुपए तो नहीं मांगे जाते
January 30, 2020 • vikram kumar

फाइव स्टार रेटिंग के लिए मंगलवार काे केंद्रीय शहरी और आवास मंत्रालय द्वारा नियुक्त 6 सदस्यीय टीम शहर में आया। 10 वार्डाें में लाेगाें से गाेपनीय ढंग से फीडबैक लिया गया। दाेपहर में टीम के दाे सदस्य काेहेफिजा काॅलाेनी और गणेशगंज वार्ड में लाेगाें से फीडबैक लेने पहुंचे। लाेगाें से पूछा कि क्या आपके यहां वाहन कचरा लेने राेज आता है। सड़काें की राेज सफाई हाे रही है। सफाई के बदले काेई रुपए ताे नहीं मांगता। जवाब मिला- हां कचरा लेने के लिए राेज घर तक वाहन आता है। सफाई के बदले काेई रुपए नहीं मांगता। दल के सदस्य अलग-अलग क्षेत्राें में पहुंचे और गाेपनीय ढंग से अपना काम करते दिखाई दिए। पहले दिन 10 वार्डाें में फीडबैक लिया। कुल 40 वार्डाें में पहुंचकर दल के सदस्याें काे प्रत्येक वार्ड में 50-50 लाेगाें का फीडबैक लेना है। संभवत: सर्वेक्षण के लिए आया यह दल दाे से तीन दिन तक शहर में रुकेगा।

225 स्थानों से निगम ने हटाए कचरा घर
फाइव स्टार रेटिंग पाने के लिए निगम शहर काे डस्टबिन फ्री कर चुका है। सभी 181 स्थान से बड़े डस्टबिन हटा दिए हैं। इसके अलावा खुले कचरा घर भी खत्म कर दिए हैं। कुल 225 स्थान पर बने सभी तरह के कचरा घर हटा दिए हैं। लाेगाें से फीडबैक ले रहे दल के सदस्य ट्रेंचिंग ग्राउंड पर किए जा रहे कचरा निपटान, बगीचाें में बनाई जा रही खाद के साथ ही बाजाराें में निगम द्वारा कराई जा रही सफाई का सर्वेक्षण भी करेंगे।


ऐसे सवाल पूछे जा रहे
1. आपको पता है आपका शहर स्वच्छ सर्वेक्षण में भाग ले रहा है?
2. आप शहर में अपने आसपास की स्वच्छता काे अपने पिछले छह महीने के अनुभव के आधार पर 200 में से कितने अंक देना चाहेंगे?
3. आप शहर में सार्वजनिक और व्यावसायिक क्षेत्र की स्वच्छता काे अपने पिछले छह महीने के अनुभव के आधार पर 200 में से कितने अंक देना चाहेंगे?
4. आपसे हमेशा कचरा संग्राहक द्वारा सूखा-गीला कचरा अलग-अलग देने के लिए कहा जाता है?
5. आपके शहर में सड़काें के डिवाइडर पाैधाें या हरी घास से ढंके हुए हैं?
6. आप शहर में सार्वजनिक शाैचालयाें की स्वच्छता काे अपने पिछले छह महीने के अनुभव के आधार पर 200 में से कितने अंक देना चाहेंगे