दिल्ली / राजनाथ ने कहा- 2030 तक 10 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था का लक्ष्य, इसमें रक्षा क्षेत्र का अहम रोल होगा
September 18, 2019 • vikram kumar

नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि 2030 तक सरकार का लक्ष्य देश की अर्थव्यवस्था को 10 ट्रिलियन डॉलर बनाने का है। इसमें डिफेंस सेक्टर का महत्वपूर्ण योगदान होगा। सिंह ने कहा कि रक्षा को मेक इन इंडिया के तहत सबसे प्रमुख क्षेत्रों में से एक माना गया है।

सोसाइटी ऑफ इंडियन डिफेंस मैनुफेक्चर्स (एसआईडीएम) के दूसरे वार्षिक सत्र में राजनाथ सिंह ने कहा कि कई कारणों से भारतीय रक्षा उद्योग अतीत में अपनी पूर्ण क्षमताओं का उपयोग नहीं कर पाया है। इस कारण हमारी आयातित हथियारों पर निर्भरता बढ़ गई है। इस कार्यक्रम का थीम 'मेक इन इंडिया: 2025 तक 26 अरब डॉलर के रक्षा उद्योग की ओर अग्रसर' था।

मेक इन इंडिया के तहत रक्षा उद्योग में कई काम हुए

राजनाथ ने कहा कि मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत मौजूदा स्थिति को बदलने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। जिससे भारत न केवल हथियारों का निर्माता बने, बल्कि उनका निर्यात भी करे। भारत की संप्रभुता की रक्षा और विदेश नीति के तहत किए गए हथियारों के आयात पर भरोसा नहीं कर सकते।

उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था का मौजूदा आकार 2.7 ट्रिलियन डॉलर का है। वहीं, 2024 तक हमारा लक्ष्य इसे पांच हजार अरब डॉलर करने का है। इसके साथ ही 2030 तक 10 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था बनाने का है।

पिछले वित्त वर्ष में रक्षा क्षेत्र में 10 हजार 745 करोड़ रुपए का निर्यात हुआ

सिंह ने कहा कि पिछले वित्त वर्ष में रक्षा क्षेत्र में 10 हजार 745 करोड़ रुपए का निर्यात किया गया, जो वर्ष 2016-17 की तुलना में सात गुना अधिक है। सरकार ने अगले पांच वर्ष में निर्यात को पांच हजार अरब डॉलर तक ले जाने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने रक्षा विनिर्माण के क्षेत्र में लगी कंपनियों को सरकार की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया।